अष्टापद (बद्रीनाथ) Ashtapad (Badrinath)

NAME

सिद्ध क्षेत्र श्री दिगम्बर जैन सिद्ध क्षेत्र, अष्टापद-बद्रीनाथ

ADDRESS

श्री दिगम्बर जैन सिद्ध क्षेत्र, अष्टापद-बद्रीनाथ, पो. बद्रीनाथ, जि. चमोली, उत्तराखण्ड

CONTACT NUMBER

फो. 0 1 38 1 -222334, मो. 097585-56285 प्रबंधक एवं

सं. सूत्र : श्री जिनेन्द्र कुमार जैन, मो. 095846-961 41,075991-73864

FACILITIES

क्षेत्र पर सर्व सुविधायुक्त धर्मशाला है। 1 0 कमरे एवं 2 हॉल है। बांगड़ धर्मशाला के पीछे है। बस स्टैण्ड से 300 मीटर है। मूल बद्रीनाथ मंदिर यहां से 100 मीटर है। अनुरोध पर नाश्ता एवं भोजन उपलब्ध है।

GUIDANCE

ऋषिकेश से बद्रीनाथके रास्ते श्रीनगर में रूका जा सकता है। बद्रीनाथ अंतिम गांव है। वापिसी में श्रीनगर, पौडी, कोटद्वार, हस्तिनापुर होते हुए शॉर्ट रूट से दिल्ली पहुंचा जा सकता है।

NEAR BY CITIES

श्रीनगर-170, ऋषिकेश-275, हस्तिनापुर-240

KSHETRA DETAILS

OTHER DETAILS 

पौड़ी कोटद्वार, लेंसडाउन पर्यटन स्थल है। सभी जगह गढ़वाल मंडल के सुंदर यात्रा मानागांव-3किमी. निवास है।

पारसनाथ किला :
श्रीनगर से वापिसी में पौड़ी, कोटद्वार के बाद नजीबाबाद कस्बे से नगीना रोड पर बढ़ापुर आता है जो रोड से कुछ हटकर (नगीना से 14 कि मी. पहले) है। यही स्थान पारस नाथ का किला है। बढ़ापुर कस्बे के पास टीलों पर भग्न किले के खंडहर ही पारसनाथ का किला है। यहां अनेको खंडित मूर्तियां है। भगवान पार्श्वनाथ की विशाल
खंडित मूर्ति है। पारसनाथ का समवशरण यहां आया था। पुरातत्व प्रेमियों के लिये यह स्थान आकर्षण का केन्द्र हो सकता है। इस स्थान का जीर्णोद्धार बाकी है। हाल ही में खुदाई में चंदाप्रभु, पारसनाथ, अम्बिका देव की मूर्तियां प्राप्त हुई है। 15 कमरों की धर्मशाला बन चुकी है। 10 मई 20 1 0 को नवीन मंदिर का शिलान्यास हुआ है।